1 जनवरी 2011

चिंतन कण : सद्भाव



इष्ट वियोग और अनिष्ट संयोग के समय ही, आत्मा में दुःस्थिति पैदा होती हैं। उस स्थिति में चित को स्थिर करने का, पुरूषार्थी चिंतन ही, सद्भाव कहलाता है।

______________________________________

14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत कठिन काम है।
    नव वर्ष की शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  2. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!

    साल ग्यारह आ गया है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. @सुज्ञ जी
    सबसे पहले तो आपको और आपके सभी पाठकों को नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएँ ... मेरी ईश्वर से प्रार्थना है की आप सभी के लिए यह वर्ष भी मंगलमय एवं सुखकारी हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. @उस स्थिति में चित को स्थिर करने का पुरूषार्थी चिंतन ही सद्भाव कहलाता है।

    बेहद सुन्दर और शिक्षाप्रद .. हमेशा की तरह


    [एक जिज्ञासा भी है]
    क्या "आत्मा" के स्थान पर "मन" या "मति" होना चाहिए ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. गौरव जी,
    मन तो निरंकुश है, आत्मा उसकी सारथी है। पुरुषार्थ आत्मा के लिये ही सम्भव है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मन तो निरंकुश है, आत्मा उसकी सारथी है। पुरुषार्थ आत्मा के लिये ही सम्भव है

    @सुज्ञ जी,
    वाह ..कितनी सरलता से समाधान कर दिया आपने .. अब इस पोस्ट को पढने के पूर्ण आनन्द का अनुभव हुआ ... बहुत बहुत आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये ..
    आपका जीवन ध्येय निरंतर वर्द्धमान होकर उत्कर्ष लक्ष्यों को प्राप्त करे....

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर और शिक्षाप्रद सदविचार ... .आपको और आपके समस्त परिवार को नव वर्ष मंगलमय हो ...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...