31 दिसंबर 2010

विज्ञ बनो, अनभिज्ञ नहीं..

वीर बनो, क्रूर नहीं!

दृढ़ बनो, हठी नहीं!

खरे बनो, खारे नहीं!

भले बनो, भोले नहीं!

धीर बनो, सुस्त नहीं!

प्रेमी बनो, पागल नहीं!

गम्भीर बनो, गूंगे नहीं!

चुस्त बनो, अधीर नहीं!

न्यायी बनो, निर्दयी नहीं!

सावधान बनो, संदेही नहीं!

विवेकी बनो, मायावी नहीं!

स्वाधीन बनो, स्वछंद नहीं!

निरपेक्ष बनो, उदासीन नहीं!

मितव्ययी बनो, कंजूस नहीं!

वितराग बनो, अकर्मण्य नहीं!

समालोचक बनो, निंदक नहीं!

आस्थावान बनो, अंधभक्त नहीं!


38 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेरणादायी पंक्तियाँ ।
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नववर्ष-2011 की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छा इन्सान बनने के सभी मंत्र एक ही कविता में मौजूद हैं.
    बस लोग इनका पालन करें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया सन्देश देती रचना ...खूबसूरत प्रस्तुति


    नव वर्ष की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया चिंतन सुज्ञ जी | नए साल की बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्‍दर एवं सार्थक संदेश दिये हैं आपने इस प्रस्‍तुति में ..।


    नये साल की बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बढ़िया सन्देश देती रचना ।
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय ब्लागमित्र

    नमस्कार और नये साल की शुभकामनाऐं

    उत्तर देंहटाएं
  9. अच्छी पोस्ट है...
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बातें तो आपने बहुत ही अच्छी-अच्छी लिखी हैं। अगर इनकों जीवन में उतार लिया जाए तो सारी समस्याएँ ही खंत्म हो जाएँ।


    इस साल आप जैसे कुछ और ब्लॉगर्स को पढ़ने और जानने का मौक़ा मिला। ये मेरे लिए एक उपलब्धि रही।

    इसीलिए आपको नये वर्ष के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ देते हुए अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।
    सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥
    सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित हों
    सर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥
    सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।
    बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!


    सदाचार - मंगलकामना!

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेरणादायी पंक्तियाँ ।
    आपको नव वर्ष की हृार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी यह प्रेरणा हमारा सम्बल बने यही हमारी चेष्टा होगी... नववर्ष की मगल कामनाओं सहित..
    सलिल
    चैतन्य

    उत्तर देंहटाएं
  14. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…एस.एम् .मासूम

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपको नववर्ष 2011 मंगलमय हो ।
    एक बेहतरीन रचना ।
    काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।
    बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति ।
    सुन्दर भावाव्यक्ति । साधुवाद ।
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  16. नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर - आशुतोष मिश्र

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर कबिता चयन भी अच्छा है आपकी कल्पना साकार हप भगवन से यही विनती है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. मुबारक हो नया साल, आप को और सब को!!!
    नए साल में आप कामयाबी की नई मंजिलें पाएँ!!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. nice post..
    Each age has deemed the new born year
    The fittest time for festal cheer..
    HAPPY NEW YEAR WISH YOU & YOUR FAMILY, ENJOY, PEACE & PROSPEROUS EVERY MOMENT SUCCESSFUL IN YOUR LIFE.

    Lyrics Mantra

    उत्तर देंहटाएं
  20. नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें!

    पल पल करके दिन बीता दिन दिन करके साल।
    नया साल लाए खुशी सबको करे निहाल॥

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुंदर पंक्तियाँ ...इन सब पंक्तियों में से एक भी पंक्ति जीवन में उतर जाए तो जीवन - धन्य बन जाए ... - इन प्रेरणादायक पंक्तियों के लिए बहुत - बहुत शुक्रिया
    नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें ..परिवार सहित

    उत्तर देंहटाएं
  22. खूब सीखें दी है सुज्ञ जी. कोशिश की जानी चाहिए इन्हे अपनाने की.
    नये वर्ष की अनन्त-असीम शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुंदर प्रस्तुति
    ........
    नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुख-समृद्धिकारी एवं
    मंगलकारी हो।
    ।।शुभकामनाएं।।

    उत्तर देंहटाएं
  24. बेहद सुन्दर ... प्रेरक ... विचारणीय पोस्ट

    ।।शुभकामनाएं।।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बढ़िया सन्देश देती रचना ... नव वर्ष की शुभकामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की अनंत मंगलकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  27. ब्लॉग बुलेटिन की ५५० वीं बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन की 550 वीं पोस्ट = कमाल है न मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रश्मि जी, आपका बहुत बहुत आभार!!

      हटाएं
  28. बहुत खूब लिखा | सुन्दर सोच एक सृजनात्मक सोच |

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. एक तो छूट ही गया - 'सुज्ञ बनो ,अज्ञ नहीं !'

    उत्तर देंहटाएं
  31. हर पंक्ति एक सीख है.
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...