22 जनवरी 2011

समाज का चिंतन


"समाज"
‘पशूनां समजः, मनुष्याणां समाजः’
पशुओं का समूह समज होता है और मनुष्यों का समूह समाज
अर्थार्त, पशुओं के संगठन, झुंड कहलाते है, जबकि इन्सानो के संगठन ही समाज कहलाते है।
भेद यह है कि पशुओं के पास भाषा या वाणी नहीं होती। और मनुष्य भाषा और वाणी से समृद्ध होता है।
जहाँ भाषा और वाणी होती है,वहाँ बुद्धि और विवेक होता है। जहाँ बुद्धि और विवेक होता है वहीं चिंतन होता हैं।
आज मनुष्यों ने भाषा,वाणी,बुद्धि,विवेक और चिंतन होते हुए भी समाज को तार तार कर उसे झुंड (भीड) बना दिया हैं।
रहन-सहन में उच्चतम विकास साधते हुए भी मानव मानसिकता से पशुतुल्य होता जा रहा है।भीड में रहते हुए भी सामुहिकता तज कर, स्वार्थपूर्ण एकांतप्रिय और व्यक्तिगत होना पसंद कर रहा है।
___________________________________________________

22 टिप्‍पणियां:

  1. बिलकुल सही चिंता जताई है आपने. विकास के नाम पर लोग दिन ब दिन अलग थलग होते जा रहे है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सामूहिकता की समरसता का सुख अलग ही होता है.....इससे दूर हो रहे हैं... विचारणीय

    उत्तर देंहटाएं
  3. सविनय असहमत सुज्ञ जी.
    अपने इर्द-गिर्द एक बार फिर नजर दौड़ाएं.
    यह जरूर माना जा सकता है कि उपरी और सरसरी तौर पर देखने से ऐसा ही लगता है, जैसा आपने लिखा है, किन्‍तु अगर ऐसा है तो वह सतह पर है. मेरे निवेदन पर एक बार प्रयास करें मानवता, सामाजिकता की न जाने कितनी मिसालें आपके दिख जाएंगी, उसके बाद आने वाली आपकी पोस्‍ट की प्रतीक्षा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. राहुल जी,

    प्रस्तुत चिंतन में मानव की सामुहिकता (समाज)पर चिंता जतायी गई है।
    आपकी असहमति अपार हर्ष दे रही है कि मानवता और सामाजिकता पर सकारात्मक सोच कायम है,उम्मीदें है।

    और जो इस विचार से सहमत हो चिंता प्रकट कर रहे है,उनकी भी मनोभावना तो सामुहिकता समरसता रूपी समाज के अस्तित्व के पक्ष में है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बुद्धि और विवेक में क्या अन्तर है... रामचरितमानस में एक चौपाई भी है.. बुद्धि और विवेक के बारे में..

    उत्तर देंहटाएं
  6. prabudh-jano ke tippani pe aapki prati-tippani ka
    intzar rahega......

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  7. भारतीय नागरिक जी,

    'बुद्धि' जिसका उपयोग उचित अनुचित जानने में किया जाता है। जो सोच और विचारों का मंथन मात्र है, बुद्धि द्वारा ज्ञात उचित अनुचित में से उचित का चुनाव 'विवेक'कहलाता है।

    संजय झा जी,

    इस प्रतिउत्तर से कदाचित न्याय कर पाया होऊं।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सब तरह के लोग हैं समाज में , कुछ पशुवत , कुछ मित्रवत ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. Main aapse Sahmat hun. 'Budhhi' aur 'vivek' ke baare men Apke vichar pasand aaye.


    'Divya' ji ne bhi sahi likha hai ki Dona hi trah ke log hai yahaan par.

    Jo achhe log hai vo prerit karte hain, umeed jagaten hain.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर चिंतन..वास्तव में कई मायनों में तो पशु आचरण से भी निम्न हो चुके हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुज्ञ जी!
    समाज की प्रवृत्ति का सही चित्रण!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. .

    मित्र सुज्ञ जी,
    पशु होना वैसे तो कोई गुनाह नहीं किन्तु बुद्धि और भाषा होने के बावजूद भी पशुवत रहना गुनाह है. समाज की अवधारणा सभ्यता की प्राथमिक शर्त है. मैंने कभी संसार में पशु के न होने पर चिंतन किया था तो यह प्राप्त हुआ. यह कविता रात्रिकालीन है. इस कारण स्यात 'चिंतन' में 'तमस' तत्व की संभावना अधिक हो सकती है.

    ............ पशु .............

    यदि पशु न होता
    तो पशुता न होती ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ...
    पशुता न होती तो मन शांत होता...

    उत्तर देंहटाएं
  14. ..
    मन शांत होता, क्या रति भाव होता?

    उत्तर देंहटाएं
  15. ..
    रति भाव से ही तो सृष्टि बनी है
    रति भाव में भी तो पशुता छिपी है
    है पशुता ही मनुष्य को मनुष्य बनाती
    वरना मनुष्य देव की योनि पाता
    अमैथुन कहाता, अहिंसक कहाता
    तब सृष्टि की कल्पना भी न होती
    संसार संसार होने न पाता
    होता यहाँ भी शून्य केवल
    अतः पशु से ही संसार संभव।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आज मनुष्यों ने भाषा,वाणी,बुद्धि,विवेक और चिंतन होते हुए भी समाज को तार तार कर उसे झुंड (भीड) बना दिया हैं। सिर्फ़ पैसो के लिये आज मनुष्या जानवर बन गया हे, ओर दुसरो का खुन पी रहा हे

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुज्ञ जी बहुत ही सार्थक चिंतन......... समाज की बदलती दशा को बहुत ही अच्छी तरह से आप ने दिखाया है. सच आदमी दिन प्रति दिन असामाजिक होता जा रहा है जो चिंता का विषय है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. Sarthak chintan
    samaj humse hai jaisa dekho vaisa paoge
    achchha bhi bura bhi

    उत्तर देंहटाएं
  19. आज मनुष्यों ने भाषा,वाणी,बुद्धि,विवेक और चिंतन होते हुए भी समाज को तार तार कर उसे झुंड (भीड) बना दिया हैं।

    सटीक और सार्थक चिंतन ..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बड़े अच्छे लेख प्रस्तुत कर रहे हैं सुज्ञ जी ।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...