29 अक्तूबर 2010

कैसे कैसे कसाई है जग में


  • बकरकसाई:  बकरे आदि जीवहिंसा करने वाला।
  • तकरकसाई:  खोटा माप-तोल करने वाला।
  • लकरकसाई:  वृक्ष वन आदि काटने वाला
  • कलमकसाई: लेखन से अन्य को पीडा पहूँचाने वाला।
  • क्रोधकसाई:  द्वेष, क्रोध से दूसरों को दुखित करने वाला।
  • अहंकसाई:   अहंकार से दूसरो को हेय,तुच्छ समझने वाला।
  • मायाकसाई:  ठगी व कपट से अन्याय करने वाला।
  • लोभकसाई:  स्वार्थवश लालच करने वाला।
_________________________________________________

13 टिप्‍पणियां:

  1. कलमकसाई बहुत जमा। अभी तो और भी सम्भावनाएँ थीं जैसे देशकसाई, वेशकसाई...

    उत्तर देंहटाएं
  2. उल्लेखित आठ प्रकार के कसाइयों में से पहले और तीसरे प्रकार का तो नहीं हूँ, दूसरे नंबर का अपनी तरफ से तो सावधानी है, पर व्यापार में कुछ असावधानी से इनकार नहीं करता हूँ, कलम से भी कभी असावधानी हुयी होगी तो आप सावधान कर दीजिएगा ...............................बाकी प्रकार के कसाईपने में किसी प्रकार की कमी नहीं है, कोशिश में लगा हूँ की इन नरक द्वारों से जल्द से जल्द दूर हो पाऊं

    उत्तर देंहटाएं
  3. कलमकसाई.............. काश कलम चलाने वाले समझें इस बात को ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. सूक्ष्म अध्ययन! अभी और भी बाकी हैं (बकौल गिरिजेश जी)..

    उत्तर देंहटाएं
  5. @गिरिजेश जी,
    सही सुझाया, ये दोनो तो महाकसाई है।

    @ nam hans raj kam kasai ka .

    @पुरविया जी,

    वाकई भाव पहचान गये,यह कलमकसाई पना तो हुआ ही।

    @अमित जी,

    आपकी स्वीकारोक्ति,शब्दशः मेरी भी है, उन चारों के आगमन पर संवर के प्रयास में हूं।

    @भारतीय नागरिक जी,
    @डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,

    आभार आपका।

    वाह,वाह लेना उद्देश्य नहिं, प्रयास है इन कसाईयों के प्रति अरति पैदा करना।

    @दीदी,
    @काश कलम चलाने वाले समझें इस बात को ..

    हां, बस दीदी सभी चलाने से पहले इस शब्द का स्मरण कर ले।

    @चैतन्य जी,

    आभार!!!

    @@"अभी और भी बाकी हैं"

    सभी से निवेदन विद्वान पाठक सुझाएँ………

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुज्ञ जी, ब्‍लॉग जगत में आजकल 'शब्‍दकसाई' भी तो हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कसाईयों की क्या दुनिया में कमी है....ये तो युग ही कसाईयों का है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अभी तो और भी कई कसाई आयेंगे .... कर्युग है समाज भरा पड़ा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कलमकसाई .... वाह वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...