25 जुलाई 2010

सुख-दुःख

दुख के दिनों की दीनता, सुख के दिनों का दंभ ।
मानवता की मौत सम,   तुच्छ बोध प्रारंभ ॥1॥

कर्म शत्रु   संघर्ष से,   जगे   सुप्त सौभाग ।
दुख में दर्द लुप्त रहे, सुख में जगे विराग ॥2॥


दरिद्रता में दयावान बन,   वैभव में विनयवान ।
सतवचनों पर श्रद्धावान बन, पुरूषार्थ चढे परवान ॥3॥

9 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी सीख दोहों के माध्यम से.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया ..
    सीख देते दोहे

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुख में जगे विराग
    बेहतर

    उत्तर देंहटाएं
  4. समीर जी,
    वर्मा जी,
    अरविन्द जी,

    आभार, प्रोत्साहन के लिए, आपार खुशी हुई आप पधारे।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमारीवाणी का लोगो अपने ब्लाग पर लगाकर अपनी पोस्ट हमारीवाणी पर तुरंत प्रदर्शित करें

    हमारीवाणी एक निश्चित समय के अंतराल पर ब्लाग की फीड के द्वारा पुरानी पोस्ट का नवीनीकरण तथा नई पोस्ट प्रदर्शित करता रहता है. परन्तु इस प्रक्रिया में कुछ समय लग सकता है. हमारीवाणी में आपका ब्लाग शामिल है तो आप स्वयं हमारीवाणी पर अपनी ब्लागपोस्ट तुरन्त प्रदर्शित कर सकते हैं.

    इसके लिये आपको नीचे दिए गए लिंक पर जा कर दिया गया कोड अपने ब्लॉग पर लगाना होगा. इसके उपरांत आपके ब्लॉग पर हमारीवाणी का लोगो दिखाई देने लगेगा, जैसे ही आप लोगो पर चटका (click) लगाएंगे, वैसे ही आपके ब्लॉग की फीड हमारीवाणी पर अपडेट हो जाएगी.


    कोड के लिए यंहा क्लिक करे

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपका दोहा बहुत ही उपदेशनात्मक है
    बहुत अच्छा लगा
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. पारूल जी,
    सुबेदार जी,

    बहुत बहुत धन्यवाद!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. @ दरिद्रता में दयावान बन, वैभव में विनयवान ।
    अगर सब कोई ऐसा ही करें तो क्या ही अच्छा हो

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...