27 दिसंबर 2010

ब्लॉगजगत में स्थान

एक ब्लॉगर कपडे सिलवाने के उद्देश्य से दर्जी के पास गया। दर्जी अपने काम में व्यस्त था। उसे व्यस्त देखकर वह उसका निरिक्षण करने लगा, उसने देखा वह सुई जैसी छोटी चीज को सम्हाल कर अपने कॉलर में लगा देता और कैंची को वह अपनें पांव तले दबाकर रखता था।

दर्जी दार्शनिक था, उसनें कहा- वैसे तो उद्देश्य यह है कि आवश्यकता होने पर सहज उपल्ब्ध रहे, किन्तु यह वस्तुएँ अपने गुण-स्वभाव के कारण ही उपयुक्त स्थान पाती है। सुई जोडने का कार्य करती है अतः वह कॉलर में स्थान पाती है और कैची काटने का, जुदा करने का कार्य करती है अतः वह पैरो तले स्थान पाती है।

ब्लॉगर सोचने लगा कितना गूढ रहस्य है, सही तो है ब्लॉगर भी अपने इन्ही गुणो के कारण उचित महत्व प्राप्त करते है। जो लोग जोडने का कार्य करते है, ब्लॉगजगत में सम्मान पाते है। और जो तोडने का कार्य करते है, उन्हें कोई सभ्य ब्लॉगर महत्व नहीं देता।

जैसे गुण वैसा स्थान, अनावश्यक हाय-तौबा मचाने का क्या फायदा?

कैंची, आरा, दुष्टजन जुरे देत विलगाय !
सुई,सुहागा,संतजन बिछुरे देत मिलाय !!

35 टिप्‍पणियां:

  1. एक अच्छी पोस्ट सकारात्मक पहल .

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर बात कही आप ने इस कहावत के जरिये, धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. vhaan hnsraaj bhaayi bhut bdaa flsfaa aapne hmen sikha diya shukriya . akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  4. ज़बरदस्त सन्देश देती हुई ये पोस्ट मुझे बहुत प्यारी लगी,सुज्ञ जी.
    बड़ी सटीक और सही बात .

    उत्तर देंहटाएं
  5. वक़्त की नजाकत को समझते हुए प्रेरणादायक विचार , जीवन में ढालने योग्य ...आपका बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिलकुल ठीक कह रहे हैं आपक ! शुभकामनायें भाई जी !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया सन्देश !

    तभी तो कहा गया है ----
    कैंची, आरा, दुष्टजन जुरे देत विलगाय !
    सुई,सुहागा,संतजन बिछुरे देत मिलाय !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी रचना वाकई तारीफ के काबिल है .

    * किसी ने मुझसे पूछा क्या बढ़ते हुए भ्रस्टाचार पर नियंत्रण लाया जा सकता है ?

    हाँ ! क्यों नहीं !

    कोई भी आदमी भ्रस्टाचारी क्यों बनता है? पहले इसके कारण को जानना पड़ेगा.

    सुख वैभव की परम इच्छा ही आदमी को कपट भ्रस्टाचार की ओर ले जाने का कारण है.

    इसमें भी एक अच्छी बात है.

    अमुक व्यक्ति को सुख पाने की इच्छा है ?

    सुख पाने कि इच्छा करना गलत नहीं.

    पर गलत यहाँ हो रहा है कि सुख क्या है उसकी अनुभूति क्या है वास्तव में वो व्यक्ति जान नहीं पाया.

    सुख की वास्विक अनुभूति उसे करा देने से, उस व्यक्ति के जीवन में, उसी तरह परिवर्तन आ सकता है. जैसे अंगुलिमाल और बाल्मीकि के जीवन में आया था.

    आज भी ठाकुर जी के पास, ऐसे अनगिनत अंगुलीमॉल हैं, जिन्होंने अपने अपराधी जीवन को, उनके प्रेम और स्नेह भरी दृष्टी पाकर, न केवल अच्छा बनाया, बल्कि वे आज अनेकोनेक व्यक्तियों के मंगल के लिए चल पा रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बिल्कुल सही बात कही किन्तु हर व्यक्ति को उसके नजरिये से देखिये तो उसे लगता है की वो सही ही कर रहा है | क्या कोई खुद को गलत मानता है क्या |

    उत्तर देंहटाएं
  10. अंशुमाला जी,

    भले न कैंची स्वयं को सुई समझे,उपयोग करने वाला तो बेहतर जानता है,कौन क्या कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अमित जी,

    आपका यह छंद साभार पोस्ट में सम्मलित कर रहा हूँ।
    धन्यवाद इस शानदार टिप्पणी के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  12. .

    सूई न केवल सिलती ही है बल्कि कपडे कस जाने पर उन्हें उधेड़कर दोबारा सिलती भी है. — कुछ ब्लोगर ऐसे भी तो हो सकते हैं. सूई का बेसिक काम सिलने का ही है.
    सूई और कैंची से आपने ब्लोगर्स स्वभावों के कपडे क़तर दिए.
    कमाल का है यह प्रसंग. पसंद आया.

    यहाँ आप सूई और कैंची से स्वभाव बता रहे हैं.
    दूसरी तरफ संजय अनेजा जी 'प्याज़' से तुलना कर रहे हैं.
    लगता है कि 'ब्लोगर-स्वभाव' पर शोध चल रहा है.

    .

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुज्ञ जी,
    इस पोस्ट की जितनी तारीफ़ की जाय कम है !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  14. very fantastic post. Small but interesting and with a moral message.

    उत्तर देंहटाएं
  15. .

    मुझे लगता है ब्लोगर जब जोड़ने और तोड़ने में लग जाते हैं तो अपने लेखन कर्म से विमुख हो जाते हैं। इसलिए जोड़ने, तोड़ने , सम्मान और अपमान से अलग रहकर, बस साहित्य की सेवा करनी चाहिए ब्लोगर्स को।

    आभार।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  16. सार्थक पोस्ट... आपने सही कहा है, लेकिन हर इंसान अपने स्वभाव के मुताबिक़ ही तो काम करता है...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुज्ञ जी! अनमोल वचन!! रहीम ने भी सुई को तलवार के ऊपर बतलाया है! वैसे एक और गुण है सुई में, वो सबको एक आँख से देखती है, समदर्शी है!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. sugya jee.... sachmuch ek gahari baat kahi aapne... blog jagat ke logon ke saamne unke bhale kee baat ek uttam udaharan ke sath prastut kee hai aapne...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बिल्कुल सही और सच्ची बात्।

    उत्तर देंहटाएं
  20. सही कहा जी
    इस प्रेरक पोस्ट के लिये आभार

    प्रणाम स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  21. 'ब्लोगर और दर्जी' की लघु कथा में सुन्दर सन्देश है .
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  22. सुन्दर सन्देश देता हुआ सार्थक पोस्ट!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत ही सुन्‍दर एवं गहन भावों के साथ प्रेरक प्रस्‍तुति ...नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत अच्छा संदेश,आभार। नववर्ष की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्‍या बात है सुज्ञ जी, बिल्‍कुल आनन्‍द देने वाली बात कह दी। बहुत ही अच्‍छी प्रेरक बात।

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपकी अति उत्तम रचना कल के साप्ताहिक चर्चा मंच पर सुशोभित हो रही है । कल (3-1-20211) के चर्चा मंच पर आकर अपने विचारों से अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सुन्दर
    आपने तो इस लघुकथ्य के जरिये ब्लागजगत का दर्शन दिखला दिया

    उत्तर देंहटाएं
  28. acchhee soch darshaati है आपकी पोस्ट ... बहुत अच्छा लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...