25 दिसंबर 2010

ब्लॉगजगत, संतब्लॉगर और आशिर्वाद


ब्लॉगजगत में एक संत ब्लॉगर, ब्लॉग दर ब्लॉग घूम रहे थे। साथ एक शिष्यब्लॉगर भी था। संतब्लॉगर छांट-छांट कर ब्लॉग्स पर आशिर्वाद - टिप्पणियाँ कर रहे थे। अच्छे विचारों वाले ब्लॉग्स पर आशिर्वाद देते “आपका ब्लॉग न जमें”  और दुर्विचारों वाले ब्लॉग्स पर आशिर्वाद देते “आपका ब्लॉग, पोस्ट-दर-पोस्ट से हरा भरा रहे”

शिष्यब्लॉगर को बडा आश्चर्य हो रहा था, उसने पूछा महात्मन् यह क्या? आप बुरे विचार फ़ैलाने वालों को तो पोस्टों से भरने-फूलने का आशिर्वाद दे रहे है, और अच्छे ब्लॉग्स को उजडने का?

संतब्लॉगर ने शिष्य को समझाते हुए कहा- अच्छे विचारवान ब्लॉगर कहीं भी जाय, हमेशा अच्छे विचारों का प्रसार ही करेंगे, जब उनके ब्लॉग नहीं जमेंगे तो वे निश्चित ही दूसरे ब्लॉग पर अच्छे विचारों की टिप्पणियाँ करेंगे, जिससे अच्छे विचारों का प्रसार होगा।

शिष्यब्लॉगर- तो फ़िर दुर्विचारों वाले ब्लॉग्स को अधिक पोस्ट का आशिर्वाद क्यों?

संतब्लॉगर- वे दुर्विचार वाले ब्लॉगर, मात्र अपने ब्लॉग पर लिखने में ही व्यस्त रहेंगे। इसतरह उन्हें दूसरे ब्लॉग्स पर कुविचार टिप्पणियाँ करने का समय ही नहीं मिलेगा। जिससे दुर्विचार का फैलाव न होगा, और दुर्विचार उनके अपने ब्लॉग तक सीमित हो जाएँगे। जिन पाठको का सद्विचार से दूर दूर तक कोई नाता न होगा, वे पाठक ही उन ब्लॉग्स पर जाएगें। और इस तरह दुर्विचारों का प्रसार व प्रचार न हो पाएगा।

शिष्यब्लॉगर, संतब्लॉगगुरू  की औजस्वी निर्मलवाणी में छिपी दूरदृष्टि देख नतमस्तक हो गया।
______________________________________________

26 टिप्‍पणियां:

  1. गाँव वाली कथा का नवीनी करण ....सटीक ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही पहचाना दीदी,

    यह गांव वाली बोध-कथा का ब्लॉगीकरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुज्ञ जी,
    आपने पुरानी कथा का ब्लोगीकरण कर दिया..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज आप का लेख पढ कर लगा की सच मे भारत आधुनिक हो गया, बहुत मस्त लिखा महाराज एक बुढिया को जींस ओर टी शर्ट पहना दी, धन्य हे जी:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रूपांतरण है .. आनंद आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर मैं तो यही कहूँगा

    "आपका ब्लॉग जमा रहे"


    और आगे से आपकी टिप्पणियाँ ध्यान से पढनी पढ़ेंगी लगता है :))))

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुधार :
    और आगे से आपकी टिप्पणियाँ ध्यान से पढनी होंगी लगता है :))))

    उत्तर देंहटाएं
  8. गौरव जी,

    @"आपका ब्लॉग जमा रहे"

    ताकि आप सद्विचार टिप्पणियां फ़ैलाते जाएँ? अकेले ही???

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपको एवं आपके परिवार को क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  10. नानक वाणी के साथ सुज्ञ जी के स्वर सुनकर,बस यही कामना है कि प्रार्थना में जब भी उठें मेरे हाथ तो यही माँगें कि आपका कहना सच हो!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. अच्छे विचार हर जगह हर समय में ऐसे ही लागु हो जाते है जैसे आप ने नानक विचार का ब्लॉग के लिए किया है |

    उत्तर देंहटाएं
  12. @सुज्ञ जी
    .... हमारा काम तो पूरा हुआ ..... २०१० जो पूरा हुआ :))
    .....शुभकामनाएं :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. कुछ एक दो अच्छी अच्छी पोस्ट के जरिये कहेंगे बाय बाय

    उत्तर देंहटाएं
  14. गौरव जी,

    आपका काम पूरा कहाँ हुआ? यह तो मात्र ईस्वी साल खत्म हुआ है।
    हम तो नये साल पर नये अवतार में आपका स्वागत करेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  15. गुरू नानक जी के विचारों को आधुनिक और सामयिक रूप में रखने के लिये बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  16. गुरु नानक के उपदेश का सही सदुपयोग किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस प्रेरक प्रसंग के लिए आपका आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  18. गुरु नानक जी की कथा का ये ब्लोगीकरण बढ़िया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी अति उत्तम रचना कल के साप्ताहिक चर्चा मंच पर सुशोभित हो रही है । कल (27-12-20210) के चर्चा मंच पर आकर अपने विचारों से अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.uchcharan.com

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब सुज्ञ जी अच्छा प्रस्तुतिकरण ! हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाई जी हम भी नत मस्तक हो गयें ऐसे ज्ञान के पीछे............ कमाल का ज्ञान है. अच्छी लगी ये प्रस्तुति .
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी

    उत्तर देंहटाएं
  22. कई बार सुनी पढ़ी कथा ब्लॉगजगत के लिए भी सही सन्देश दे रही है ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर
    बहुत अच्छी लगी जी यह पोस्ट

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही सुन्‍दर एवं सार्थक प्रस्‍तुति ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...