26 अगस्त 2010

क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है


सौ सौ चुहे खा के बिल्ली, हज़ को जा रही है।
क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है॥

गुड की ढेली पाकर चुहा, बन बैठा पंसारी।
पंसारिन नमक पे गुड का, पानी चढा रही है॥

कपि के हाथ लगा है अबतो, शांत पडा वो पत्थर।
शांति भी विचलित अपना, कोप बढा रही है

 
हिंसा ने ओढा है जब से, शांति का चोला।
अहिंसा मन ही मन अबतो, बडबडा रही है॥

सियारिन जान गई जब करूणा की कीमत।
मासूम हिरनी पर हिंसक आरोप चढा रही है॥

सौ सौ चुहे खा के बिल्ली, हज़ को जा रही है।
क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है॥

36 टिप्‍पणियां:

  1. गुड की ढेली पाकर चुहा, बन बैठा पंसारी।
    पंसारिन नमक पे गुड का, पानी चढा रही है।

    सही बताइयें तो देश की येही स्तिथि है.......

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब का करी ससुर एही तो कलजुग बा

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही तकलीफ व्यक्त की है आपने , बेहतरीन सामयिक अभिव्यक्ति , मगर आप जैसे लोगों के होते फर्क आएगा ....
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  4. जो आपने लिखा है ...बहुत सही कटाक्ष है...
    लेकिन सन्दर्भ क्या है..ई हम नहीं समझे हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सौ सौ चुहे खा के बिल्ली, हज़ को जा रही है।
    क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है।!

    हँसराज जी, एक बेहद सामयिक एवं सटीक अभिव्यक्ति....
    अक्ल के अन्धों को छोड दिया जाए, तो जो कुछ भी यहाँ घट रहा है उसे तो एक आँख का अंधा भी बखूबी महसूस कर सकता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. सौ सौ चुहे खा के बिल्ली, हज़ को जा रही है।
    क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है।!

    हँसराज जी, एक बेहद सामयिक एवं सटीक अभिव्यक्ति....
    अक्ल के अन्धों को छोड दिया जाए, तो जो कुछ भी यहाँ घट रहा है उसे तो एक आँख का अंधा भी बखूबी महसूस कर सकता है.....

    उत्तर देंहटाएं
  7. bhut khub aaj ki krurtaa or chdm yaani dohre kirdaar dohri soch kaa khub khulaasaa kiyaa he bdhaayi ho akhtar khan akela kota rajsthan

    उत्तर देंहटाएं
  8. हिंसा ने ओढा है जब से, शांति का चोला।
    अहिंसा मन ही मन अबतो, बडबडा रही है।

    सियारिन जान गई जब करूणा की कीमत।
    मासूम हिरनी पर हिंसक आरोप चढा रही है।

    सौ सौ चुहे खा के बिल्ली, हज़ को जा रही है।
    क्रूरता आकर करूणा के, पाठ पढा रही है।




    @आदरणीय एवं प्रिय सुज्ञ जी

    आपने तो पूरी की पूरी हकीकत बयान कर दी अपनी इस एक रचना के ज़रिये, बहुतों को आईना दिखाने की काबिलियत है आपकी इस कविता में

    मेरी तरफ से आपको ढेरों बधाई

    और एक निवेदन भी- कृपया इस रचना को ब्लॉग-संसद पर भी publish करें

    आभार

    महक

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप की रचना 27 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  10. गुड की ढेली पाकर चुहा, बन बैठा पंसारी।
    पंसारिन नमक पे गुड का, पानी चढा रही है।

    बखूबी, सुन्दर कटाक्ष किया है

    उत्तर देंहटाएं
  11. सियारिन जान गई जब करूणा की कीमत।
    मासूम हिरनी पर हिंसक आरोप चढा रही है।
    क्या बात है ....!!
    सन्दर्भ दे दिया होता तो कविता और भी सार्थक हो जाती..
    (निर्मल हास्य )

    उत्तर देंहटाएं
  12. कवि अपनी कविता का सन्दर्भ देता दिखा है कहीं. जरा ब्लॉग से ही उदहारण दें समझाएं मुझ जैसे कवितायेँ कम समझने वाले व्यक्ति को.

    उत्तर देंहटाएं
  13. कवि के शुभचिंतक ही कुरेद रहे है,कवि के घाव? :)
    किस किस को बताएं हम दिल के छाले,
    दुआ कर रहे हैं दुआ करने वाले।

    कवि भुखे पेट भजन कर लेता है,पर यहां वहां मुंह नहिं मारता।
    भुखा रहकर भी भावनाएं समझे उसका नाम कवि।

    उत्तर देंहटाएं
  14. .
    कवी सुज्ञ को हमारा नमन इस बढ़िया कविता के लिए। इसे पढ़कर एक ही ख़याल आया.... बिल्ली के संग बिल्ले भी अब भगवा अपना रहे हैं।
    .

    उत्तर देंहटाएं
  15. मुझे आपका ब्लॉग बहुत बढ़िया लगा! बहुत ही सुन्दर और शानदार रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. गुड की ढेली पाकर चुहा, बन बैठा पंसारी।
    पंसारिन नमक पे गुड का, पानी चढा रही है
    हंस जी आपके ब्लॉग पर आज आ कर आनंद आ गया...क्या खूब लिखते हैं आप...वाह...बधाई स्वीकार करें..

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  17. दीपक जी,
    संचालक जी :विचार शून्य,
    सतीश सक्सेना,
    स्वप्न मंजूषा जी,
    पं.डी.के.शर्मा"वत्स" जी,
    अखतर साहब,
    महक जी,
    अनमिका जी,
    एम वर्मा जी,
    वाणी गीत जी,
    विरेंद्र सिंह चौहान जी,
    दिव्या जी,
    उर्मि चक्रवर्ती जी,
    संगीता स्वरुप जी (दीदी),
    नीरज गोस्वामी जी,
    कविता के भाव को सराहने के लिये आपका बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  18. आजकल यही हाल है। क्या किया जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्छा कबिता क़े माध्यम से आपने सटीक हमला किया है
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  20. bahut hi sarthak rachna...vastusthiti ko darshati huye

    उत्तर देंहटाएं
  21. पढ़ तो लिया,पर कहने को कुछ नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सोचने को मजबूर करती हुई रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुबेदार जी,
    पी के सिंह जी,
    शाहनवाज़ जी,

    भाव को समझने के लिये आभार्।

    उत्तर देंहटाएं
  24. राजेश जी,
    भाव पहूंच गया तो बस,सफ़ल हुआ कार्य।

    उत्तर देंहटाएं
  25. कपि के हाथ लगा है अबतो, शांत पडा वो पत्थर।
    शांति भी विचलित अपना, कोप बढा रही है ...

    आज के हालात का सही विवेचन किया है ......बहुत खूब ......

    उत्तर देंहटाएं
  26. पुनः पढ़ी आपकी कविता, बहुत अच्छी लगी। बहुत सुन्दर तरीके से अभिव्यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. राजभाषा हिंदी संचलक श्री,
    एस एम जी,
    दिगम्बर नासवा जी,
    दिव्या जी
    मृदुला प्रधान जी,

    अभिव्यक्ति को संबल प्रदान करने के लिये आभार!!

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही सुन्दर ,
    देश की हालत आप ने कविता के माद्यम से एक दम सटीक वर्णित की है

    उत्तर देंहटाएं
  29. सोचने को मजबूर करती हुई रचना.....

    उत्तर देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...